जहानाबाद

तबरेज आलम उर्फ़ तब्बू की गोली मार हत्या नमाज पढ़कर बाहर निकल रहे थे, तभी मारी गोली

पटना में दिनदहाड़े कोतवाली थाना के पीछे एक तरफ जहाँ विधापति भवन में महामहिम राज्यपाल का कार्यक्रम चल रहा था वहीँ उसी इलाके सिवान के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के ख़ास रहे जहानाबाद निवासी तबरेज आलम उर्फ़ तब्बू को बेख़ौफ़ अपराधियों ने गोलियों से छलनी कर हत्या कर दी और आराम से फरार हो गये |राजधानी के डाकबंगला चौराहे से लेकर कोतवाली मोड़ तक जिस इलाके में चौबीस घंटे पुलिस की आवाजाही रहती है और मुहर्रम को लेकर चाक चौबंद सुरक्षा को धत्ता बताते हुए दुहसाहसी अपराधियो ने ताबड़तोड़ चार गोलिया मार तब्बू की हत्या कर पटना पुलिस चौकसी की पोल खोल दी. तबरेज बिहार के जहानाबाद के गड़ेरिया खंड इलाके का रहनेवाला था और फ़िलहाल पटना के फ्रेजर रोड स्थित ग्रैंड चंद्रा अपार्टमेंट में रहता था.
जहानाबाद से वह वर्ष 2010 में विधान सभा का चुनाव भी लड़ चुका है. तवरेज इन दिनों ठेकेदारी करता था ।

उसपर हत्या, लूट, अपहरण के कई मामले पटना, सीवान व धनबाद में दर्ज है । तवरेज के पिता जफरउद्दीन जिया जहानाबाद के पूर्व नगर पार्षद रह चुके हैं। वह कई तरह के कारोबार में लगा हुआ था। बताया जाता है कि 2003 में ही धनबाद के वासेपुर में फहीम खान के घर पर एके 47 से हमला किया गया था। वासेपुर के रहनेवाले शब्बीर खान ने फहीम की हत्या के लिए तबरेज आलम को वासेपुर बुलाया था। फहीम के घर पर हमला कर भागने के दौरान पुलिस और तबरेज के बीच मुठभेड़ भी हुई थी जिसमें तबरेज का एक साथी मारा गया था। साल 2005 में अपहरण फिल्म बनी थी। प्रकाश झा की इस फिल्म के बारे में कहा जाता है कि उस वक्त बिहार में बढ़ रही किडनैपिंग की वारदात को लेकर यह फिल्म बनायी गयी थी। शहाबुद्दीन के खास रहे तबरेज के कैरेक्टर में नाना पाटेकर को रखा गया था । फिल्म में नाना पाटेकर को विधायक तबरेज आलम की भूमिका दी गयी थी. एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि अपराधियों को दबोचने के लिए पुलिस की कई टीमें लगी हुई है.

पहले से घात लगाये अपराधियों ने तबरेज पर गोलियों की बरसात कर दी और बाईक से फरार हो गये.
तबरेज की हत्या अपराधियों ने उस वक्त कर दी जब वह पटना के कोतवाली थाना के नजदीक कोतवाली मस्जिद से नमाज पढ़कर बाहर निकल रहा था. मस्जिद से बहार निकल कर जैसे ही तबरेज अपनी सफारी गाड़ी का गेट खोल रहे तबरेज को एक गोली मारी। गोली लगते ही वह गिर गया इसके बाद अपराधियों ने उसे तीन गोलियां मारी। गोली मारने के बाद अपराधी वहां से हथियार लहराते हुए फरार हो गया स्थानीय लोगों के मुताबिक दो अपराधी जो स्कूटी से थे, मौके पर रेकी कर रहे थे। दोनों अपराधी अपनी मुंह पर काले रंग की पट्टी बांध रखी थी। रेकी कर रहे अपराधी मजिस्द से निकलते ही तवरेज पर हमला बोल दिया। बाइक से भाग रहे दो अपराधियों की तस्वीर इलाके में लगे सीसीटीवी में आयी है

 

अपराधियों की पहचान में पुलिस जुट गयी है। मौके से पुलिस को खोखा भी मिला हैं। पूरी तैयारी के साथ आए अपराधियों ने तबरेज को कुल चार गोलियां मारी. घायल अवस्था में इलाज के लिए तबरेज को अस्पताल भी ले जाया गया लेकिन उसकी जान नहीं बच सकी. घटनास्थल से कुछ ही दूरी पर मौजूद विद्यापति भवन में राज्यपाल और डिप्टी सीएम एक कार्यक्रम में मौजूद थे. इसके लिए वहां भारी पुलिस बल को तैनात किया गया था। इसके बाद भी अपराधियों ने हत्या की इस घटना को अंजाम देकर पटना पुलिस को बड़ी चुनौती दी है.

तबरेज की पत्नी समां प्रवीण ने जो प्राथमिकी दर्ज करायी है उसमे बताया गया है की फुलवारीशरीफ के नौसा में जमीन को लेकर तबरेज का विवाद चल रहा था. एक ही प्लॉट पर तबरेज और डब्लू मुखिया दोनों की नजर थी. शुरुआती तफ्तीश में हत्या का कारण जमीन विवाद सामने रहा है. तबरेज की पत्नी समां प्रवीण ने चार लोगों पर मामला दर्ज कराया है. सब्जीबाग का रहनेवाला डब्लू मुखिया, अरवल का रूमी मल्लिक , जहानाबाद का फारूक आजम और बेला चाकन का अंजार खान को नामजद कराया गया है. इधर, देर रात पुलिस ने तीन संदिग्धों को उठाया और उनसे पूछताछ की।

 

 

Please follow and like us:
RSS
Follow by Email
Facebook
Google+
https://www.jehanabadonline.com/jehanabad/tabrej-murder-near-patna-kotwali/
Twitter

About the author

Related Posts

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.