भारत

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना के संबंध में कुछ अहम बातें जानिए इससे जुड़ी हर छोटी बड़ी बात

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना, जानिए इससे जुड़ी हर छोटी बड़ी बात
Publish Date:Wed, 30 Aug 2017 12:19 PM (IST) | Updated Date:Fri, 01 Sep 2017 11:12 AM (IST)

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना, जानिए इससे जुड़ी हर छोटी बड़ी बात
प्रधानमंत्री वय वंदना योजना, जानिए इससे जुड़ी हर छोटी बड़ी बात
जानिए प्रधानमंत्री वय वंदना योजना के संबंध में कुछ अहम बातें

नई दिल्ली (जेएनएन)। 60 वर्ष या फिर इससे अधिक उम्र के लोगों को आर्थिक रुप से सक्षम बनाने के लिए सरकार ने इसी साल जुलाई महीने में वय वंदना योजना की औपचारिक शुरुआत की है। लाइफ इन्योरेंस कॉरपोरेशन (एलआईसी) से यह पेंशन प्लान ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरीकों से खरीदा जा सकता है। आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री वय वंदना योजना को इसी साल 4 मई 2017 को लॉन्च किया था।

आखिर क्या है योजना:

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना (पीएमवीवीवाई) 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए तैयार की गई एक खास पेंशन योजना है जो कि 4 मई 2017 से 3 मई 2018 तक उपलब्ध होगी, यानी इस दौरान आप इस योजना को चुन सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत 8 फीसद का सम एश्योर्ड रिटर्न भी सुनिश्चित किया गया है। मंत्रालय के मुताबिक यह पेंशन स्कीम 8 फीसद का एश्योर्ड रिटर्न उपलब्ध करवाएगी। यह स्कीम 10 साल के लिए है। यानी एक बार पेंशन प्लान ले लेने पर आपको अगले 10 सालों तक मासिक आधार पर पेंशन दी जाती रहेगी।

इस पेंशन प्लान के अन्य फायदे:

• यह स्कीम पूरी तरह से सर्विस टैक्स और जीएसटी के दायरे से बाहर है।
• अगर पेंशनर पॉलिसी टर्म की अवधि यानी 10 साल तक जिंदा रहता है तो पर्चेज प्राइज के साथ ही फाइनल पेंशन की इंस्टॉलमेंट का भुगतान कर दिया जाएगा।
• अगर किसी कारणवश पेंशनभोगी (पॉलिसी होल्डर) की मृत्यु हो जाती है तो, भुगतान किए गए प्रीमियम (खरीद मूल्य) पेंशनभोगी के नामित/ कानूनी उत्तराधिकारी को वापस कर दिए जाएंगे।
• पॉलिसी के तीन साल पूरे हो जाने के बाद आपको पर्चेज प्राइज का 75 फीसद हिस्सा बतौर लोन भी मिल सकता है।
• स्कीम के तहत अगर पेंशनर को खुद या उसकी पत्नी को गंभीर बीमारी हो जाती है तो वह इस स्कीम से समय से पहले निकल सकता है। ऐसी सूरत में उसे पर्चेज प्राइस का 98 फीसदी रिफंड मिल जाएगा।

कैसे खरीद सकते हैं:

इस स्कीम को एक लंप-सम (एकमुश्त) राशि के भुगतान के जरिए खरीदा जा सकता है। पेंशनभोगी के पास पेंशन की रकम या पर्चेज प्राइज का चयन करने का विकल्प होता है।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट
बढ़ती हुई महंगाई एवं घटते हुए ब्याज दर के दौर में सबसे ज्यादा परेशान अगर कोई वर्ग है तो वो रिटायर्ड नागरिक है। उनेके पास आय बढ़ाने का सेवा निवृति के बाद कोई जरिया नहीं रहता। सरकार ने बजट में एक योजना शुरू करने का प्रस्ताव रखा था जिसके तहत सरकार ने प्रधानमंत्री वय वंदना योजना शुरू की है। मेरी राय में वरिष्ठ नागरिकों को इस योजना का लाभ अवश्य उठाना चाहिए। वरिष्ठ नागरिक बचत योजना जिससे निवेश की सीमा 15 लाख तक तय है और जिसमें मिलने वाले ब्याज की दर की हर तिमाही पर समीक्षा होती है।

About the author

Related Posts

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.